Friday, October 3, 2008

पूछो उनसे , जो अनाथ होते है !


खुशकिस्मत होते है वे लोग
जिनके मां-बाप होते है
पूछो उनसे -
जो अनाथ होते है ।
यदि कोई खुदा है
इस धरती पर
तो वो मां -बाप ही है
तुम चाहे जैसे भी हो
वो तुम्हारे साथ होते है ।
कैसे तुम रोओगे ?
किसी और के सामने
आंशूं बहाने और पोछने
वाले भी तो चाहिए जो
जो तुम्हारे साथ होते है ।

4 comments:

सतीश सक्सेना said...

उन्ही लोगों में से एक हूँ देवेश ! और यह दर्द अच्छी तरह जनता हूँ !और इसी तरह की सोच है जो आपने चित्रित की है !
शुभकामनायें !

PS: please remove word verification. this will not serve any purpose rather you will recv less comments

*KHUSHI* said...

bahut hi saccha likha hai apane...

Upinder Dhami said...

vry good
keep it up brother

Vishavjeet Singh said...

बहुत ही अच्छा लिखा है 'देव ', हमको जब अपने माता-पिता से कुछ समय के लिए दूर रहने पर ही उनकी याद बार-बार आती रहती है, तो उनका क्या होता होगा जो अनाथ हैं। आपने बड़े ही नज़दीक से उनके दर्द को समझकर, बाखुबी प्रस्तुत किया है। पर कहते हैं न कि जिनका कोई नही होता उनका भगवान् होता है:
"अनाथ कौन है यहाँ, त्रिलोकनाथ साथ हैं। दयाल दीनबंधु के बड़े विशाल हाथ हैं॥"