Monday, August 18, 2008

कैसे तुम्हें बुलाऊ


कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ
प्रेम भरे शब्दों में कितनी
कोमलता मै लाऊ
कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ
डरता हूँ कही प्रेम गीत से
कोमल मन न कुम्हालाऊ
कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ।
कोयल की मै कूक ना जानू
पपीहे की मै तेर ना जानू
हर धड़कन में गीत है तेरे
उन गीतों से तुम्हे बुलाऊ
कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ।
रूप रंग सुंदर की तुम
अमर कृति तुम अमर निशानी
प्रेम की देबी प्रेम की मूरत
तुम ही हो परियों की रानी
तुम ही ho मेरी प्रेम कहानी
ख्वाबो के स्वप्निल रंगों की
तुम्हे चुनर पहनाऊ
कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ।
पलकों में है ख्वाब तुम्हारे
जब भी मिलते नैन हमारे
छुई मुई सा मै शर्माऊ
दिल की बात मै दिल में छिपाऊ
तुमसे मै कुछ कह नहीं पाऊं
कैसे तुम्हे बताऊँ
कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ।
नेह का बंधन
स्नेह स्पंदन
जीवन को करता मै अर्पण
प्रेम का पुष्प chadaun
कैसे तुम्हे बुलाऊ प्रियवर
कैसे तुम्हे बुलाऊ...........




3 comments:

शोभा said...

अच्छा लिखा है। स्वागत है नए ब्लाग का।

शहरोज़ said...

bhai khoobhai aapka blog.

http://shahroz-ka-rachna-sansaar.blogspot.com/
http://hamzabaan.blogspot.com/
http://saajha-sarokaar.blogspot.com/

Dr. Uday 'Mani' Kaushik said...

सादर अभिवादन
पहले तो हिन्दी ब्लोग्स के नए साथियों में आपका असीम स्वागत है
दूसरे आपकी अच्छी रचना के लिए बधाई
चलिए अपने परिचय के लिए अभी मैंने एक गीत ब्लॉग पे डाला है उसकी कुछ पंक्तियाँ भेज रहा हूँ
देखियेगा

और कुछ है भी नहीं देना हमारे हाथ में
दे रहे हैं हम तुम्हें ये "हौसला " सौगात में

हौसला है ये इसे तुम उम्र भर खोना नहीं
है तुम्हें सौगंध आगे से कभी रोना नहीं
मत समझना तुम इसे तौहफा कोई नाचीज है
रात को जो दिन बना दे हौसला वो चीज है

जब अकेलापन सताए ,यार है ये हौसला
जिंदगी की जंग का हथियार है ये हौसला
हौसला ही तो जिताता ,हारते इंसान को
हौसला ही रोकता है दर्द के तूफ़ान को

हौसले से ही लहर पर वार करती कश्तियाँ
हौसले से ही समंदर पार करती कश्तियाँ
हौसले से भर सकोगे जिंदगी में रंग फ़िर
हौसले से जीत लोगे जिंदगी की जंग फ़िर

तुम कभी मायूस मत होना किसी हालात् में
हम चलेंगे ' आखिरी दम तक ' तुम्हारे साथ में

आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा में
डॉ उदय मणि कौशिक
http://mainsamayhun.blogspot.com